जयपुर में मन रहा है रंगीले राजस्थान का उत्सव: राजस्थान दिवस

0 102

राजस्थान भारत का एक ऐसा प्रदेश है जो अपनी रंग बिरंगी संस्कृति के लिए पुरे विश्व में प्रख्यात है| हालांकि राजस्थान की संस्कृति ही कुछ ऐसी है की यहाँ हर दिन एक उत्सव के समान लगता है पर जब आती है विशेष दिवसों की तब राजस्थान की खूबसूरती देखते ही बनती है|

राजस्थान की लोक संस्कृति का जश्न ‘राजस्थान दिवस’ इस राज्य की राजधानी जयपुर में आयोजित किया जाता है | हर वर्ष 30 मार्च को यह उत्सव राजस्थान के स्थापना दिवस के रूप में मनाया जाता है और इस वर्ष यह उत्सव 28 मार्च 2018 को तीन दिवसीय उत्सव के रूप में प्रारम्भ होगा|

राजस्थान के पर्यटन विभाग द्वारा आयोजित राजस्थान दिवस आपको इस राज्य के विभिन्न पहलुओं से परिचित करता है | इस उत्सव में राजस्थान के नृत्य-संगीत, खान-पान, कला एवं संस्कृति की विविध छटा देखने को मिलती है | साथ ही साथ राज्य में हो रहे विभिन्न विकास कार्यो की जानकारी प्रदर्शनी एवं झांकियों के माध्यम से की जाएगी|

 

28 मार्च को कार्यक्रम का शुभारम्भ राजस्थान दिवस टॉर्च को प्रकाशित कर के किया जाएगा | साथ ही मैराथन का आयोजन भी किया जाएगा |मैराथन में शामिल होने के लिए मंगलवार सुबह 5.30 बजे तक गडरा सर्किल पहुंचना होगा। वहीँ सफेद आकड़ा महादेव मंदिर, महाबार रोड में शाम 7 बजे भक्ति संगीत का कार्यक्रम आयोजित होगा।

 

29 मार्च को इवनिंग कॉन्सर्ट का आयोजन किया जाएगा जिसमें राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सुफियाना कव्वाली, फिल्मी गीतों और ग़ज़लों में धूम मचाने वाले साबरी ब्रदर्स कव्वाली की प्रस्तुति देंगे। | साथ ही जाने माने संगीतकार शकर, एहसान एवं लोय की तिगड़ी शाम सात बजे से अल्बर्ट हॉल में अपनी प्रस्तुति देगी|

 

30 मार्च 2018, को इस तीन दिवसीय कार्यक्रम का भव्य समापन आयोजित किया जाएगा | इसमें 11 बजे से इंटरनेशनल फेस्टिवल फॉर शार्ट फिल्म का आयोजन होगा जिसका विषय संस्कृति एवं पर्यटन है | इसमें विभिन्न श्रेणियों में जीतने वाले प्रतिभागियों को सम्मानित भी किया जाएगा |शाम 6:30 से जयपुर स्थित विधान सभामें कार्यक्रम आयोजित होगा |

राजस्थान दिवस एक मौका है जहाँ राजस्थान के लोग अपने अस्तित्व का उत्सव मानते है और विश्व को अपनी अप्रतिम संस्कृति से रूबरू करवाते है | वास्तव में राजस्थान भारत का सबसे रंगीन राज्य है यहाँ की संस्कृति बहुत ही मन भावन है | ऐसे में इस प्रकार के आयोजन राजस्थानी सभ्यता के संरक्षण को बढ़ावा देता है |

राजस्थान में ऐसे अनगिनत लोग और परिवार है जिनका जीवकोपार्जन पर्यटन से होता है | ऐसे में राजस्थान दिवस मानाने का पर्यटन विभाग की यह पहल सराहनीय है |

यदि आप भी राजस्थान घूमने का विचार बना रहे है तो राजस्थान दिवस के इस आयोजन का हिस्सा ज़रूर बने | यूँ तो राजस्थान दिवस का आयोजन समूचे राजस्थान में होता है पर प्रदेश की राजधानी जयपुर में होने वाले आयोजन की बात ही अलग है|

गुलाबी शहर जयपुर का हर वासी आपसे यही कहना चाहेगा कि “पधारो म्हारे देश …”

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.