Ramzan Food Walk : देखें लखनऊ के बाज़ारों में रमज़ान की रौनक

0 109

रमज़ान का पाक महीना आते ही हवा में इबादत और लज़ीज़ पकवानो की खुशबु तैरने लगती है | जहाँ दुनिया भर में रमजान जोर शोर से मनाया जा रहा है वही लखनऊ में भी रमजान की रौनक कुछ कम नहीं है | लखनऊ नवाबों का शहर है और यहाँ के अवधी पकवान दुनिया भर में मशहूर है, ऐसे में रमज़ान लखनऊ के पकवान सहरी और इफ्तारी को और भी ख़ास बनाते है |

जैसे ही रात परवान चढ़ती है लखनऊ की बाज़ारों की रौनक बढ़ने लगती है | दिन भर तो लोग रोज़ा रखते है और इबादत में मशरूफ रहते है पर रात में लोग खरीदारी करने बाजार में निकलते है साथ ही इफ्तारी और सहरी के वक़्त लज़ीज़ पकवानो का आनंद भी लेते है |

रमजान की इसी रौनक का लुत्फ़ लेने लखनऊ बाइट्स की टीम भी पहुंची पुराने लखनऊ के चौक बाजार में | अकबरी गेट से शुरू हुआरमजान फ़ूड वाक’ का सिलसिला, जहाँ हमने तरह तरह की खाने पीने की चीज़ों का स्वाद लिया, साथ ही बाजार की चमक धमक को अपने कैमरे में कैद किया

जहाँ बाजार में कुछ लोग खरीदारी करते देखे जा सकते थे वहीँ कई लोग दोस्तों के साथ मौज मस्ती करने निकले थे | हालांकि ज्यादातर लोग खाने पीने के लिए चौक पहुंचे थे | यहाँ आस पास के इलाकों में रहने वाले लोगों के साथ साथ लखनऊ के कोने कोने से लोग पहुंचे थे | यहाँ मौजूद तरह तरह के व्यंजनों के बीच सबसे खास डिमांड में थे टुंडे कबाब, रहीम, मुबीन और कश्मीरी चाय |

टुंडे कबाब की तारीफ में तो कुछ कहने की ज़रुरत ही नहीं है | यहाँ के कबाब तो दुनिया भर में मशहूर है | कहते है ये मशहूर कबाब 100 मसलो से मिलकर बनाये जाते हैं | रमज़ान में इफ्तारी और सहरी में इसकी ख़ास डिमांड रहती है और लोग की सिर्फ यहाँ आकर इन सॉफ्ट कबाबों का आनंद लेते है बल्कि पैक करवा कर घर भी ले जाते है |

कबाब के अलावा लखनऊ की कुलचा निहारी भी बहुत मशहूर है | कुलचा निहारी का आनंद लेना हो तो चौक स्तिथ रहीम की कुलचा निहारी ज़रूर जाएं | लखनऊ की कुलचा निहारी बहुत लाजवाब होती है और आपको ऐसा स्वाद और कहीं भी नहीं मिलेगा | निहारी को बहुत धीमी आंच पर कुछ चुनिंदा मसलो के साथ रात भर पकाया जाता है इसलिए खाने में ये इतनी सॉफ्ट होती है की मुँह में घुल जाए | रमजान में लोग इफ्तारी के वक़्त इसे खाना बहुत पसंद करते हैं |

रमज़ान में लोग इकठ्ठा होते है, त्यौहार का आनंद लेते है और पुराने लखनऊ की रूह को महसूस करते हुए तरह तरह के पकवान का लुत्फ़ उठाते हैं | इन्ही में से एक है कश्मीरी चाय | सुनने में थोड़ा अजीब लगता हैं पर लखनऊ में खास तरह की गुलाबी चाय मिलती हैं | खासकर कीरमज़ान और ईद के मौके पर आपको चौक और नक्खास में ज़रूर मिलेगी |

इस चाय की विधि मूल रूप से कश्मीरी मानी जाती हैं | इलाइची, केसर और केवड़े की खुसबू से सराबोर इस चाय को बनाने में पूरी रात लग जाती हैं | इसे बलाई (मलाई) और तफ्तान के साथ परोसा जाता हैं | इसका रंग वास्तव में गुलाबी होता हैं और हर किसी को रमज़ान की इफ्तारी में खासा पसंद किया जाता है |

रमज़ान की रौनक यूं ही चलती रहेगी | अगर आप भी इसका हिस्सा बनना चाहते है तो इस वीडियो को देखने के साथ एक बार इस पाक महीने में पुराने शहर में रमज़ान की रौनक महसूस करने जरूर जाएं |

Leave A Reply

Your email address will not be published.